सफलता के लिये 9 ज्ञान की बाते 9 Gyan Ki Baatein in Hindi

सफलता के लिये 9 ज्ञान की बाते 9 Gyan Ki Baatein in Hindi

9 ज्ञान की बाते जो आपको तेज़ी से सफलता और ओर ले जा सकती है।

ज्ञान की बाते आपमें अपार उर्जा का निर्माण करेंगी। इसीलिये अपना पुरा ध्यान इस लेख पर दीजिये! जब आप इन ज्ञान की बातो को अपनाओगे, तो आपको सफल बनने से कोई नही रोक सकता।

आप सफल बनना चाहते हो सिर्फ इस वजह से आपके जीवन में कभी सफलता नही आएँगी। यदि आप निचे दी गयी आदतों को नहीं अपना सकते हो तो आपका जीवन सामान्य ही रह जायेगा और आप अपने जीवन में बड़ा मुकाम हासिल नहीं कर पाएंगे।

जब भी कभी आप अपने आस-पास सफल लोगो को देखते है, तब ये बात कभी नही भूले की वह भी इन् ज्ञान की बातों को मानते है और उन्हें अपने जीवन में लाने का पूरा प्रयास करते है। सफलता के रास्तो में उन्होंने कई बार असफलता भी देखी है। सफल इंसान सफलता पाने के लिए अपनी कई आदतों का त्याग भी करता है और कई नयी आदतों को अपनाता भी है।

यदि आप सफलता प्राप्त करने के लिए गंभीर हो, तो आपको अपने अंदर के साधारण इंसान को कुछ नया पाने के लिए छोड़ना होंगा। इसी तरह आपमें बदलाव आ सकते है।

ज्ञान की बात नं. 1 – सुबह पर अपना कब्ज़ा कर ले:-

जब साधारण / असफल लोग सोते रहते है उस वक़्त सफल लोग रोज़ अपने नये-नये इरादों के साथ आगे बढते चले जाते है। जब आप सुबह जल्दी उठते वक़्त alarm को आलस या नींद के वजह से बंद करते हो और खुद को काम न करने के बहाने देने लगते हो तब आपके लिए सफल होना बहुत ही मुश्किल है।

सुबह के समय जल्दी उठकर पुरी सुबह को ही अपने कब्जे में कर ले, ताकि आप अच्छे से अच्छा काम कर सको। स्वस्थ नाश्ता करना हो या exercise करना हो, important किताब / न्यूज़ पढ़ना हो या फिर आपके सबसे ज्यादा priority के काम ख़त्म करना हो, सुबह सुबह यह काम बहुत जल्दी और आसानी से हो जाते है।

Fresh दिमाग और उत्साह से किये हुए काम का result भी कई गुना अच्छा आता है। जब दुनिया में बाकी लोग पलंग पर आराम कर रहे होते है तभी आपको अपने ये सारे काम कर लेने चाहिये। और सुबह को अपने कब्जे में कर लेना चाहिये।

ज्ञान की बात नं. 2 – अपना हर दिन एक उद्देश के साथ शुरू करे:

अपने दिन की शुरुवात एक स्पष्ट उद्देश के साथ शुरू करने से आप आसानी से अपने लक्ष्य को हासिल कर सकते हो। जैसा की हमने पहले भी कहा है की सफल इंसान “सिर्फ इसलिये” / ”ऐसेही “/ “Timepass के लिए” कोई भी काम नही करते।

सफल इंसान अपना हर एक काम किसी न किसी उद्देश के साथ ही करता है। कोई भी काम आप क्यों कर रहे हो? इस बात को जानना, आपमें आपके लक्ष्य को पाने की अपार उर्जा निर्माण करता है। Clear उद्देश्य होने के कारण आप अपना काम ठीक से plan कर सकते है और आपका time बेकार चीज़े करने में बर्बाद नहीं होगा।

ज्ञान की बात  नं.3 – प्रतिउत्तर (दुसरे सलाह ले) से कुछ सीखे:

बहुत से लोग इस बात से नफरत करते है की वे जो कुछ भी कर रहे है उसके प्रतिउत्तर में लोग उन्हें गलत बोले और कुछ नया करने की सलाह दे। दुसरे के सलाह को स्वीकार करना कोई आसान काम नही है, लेकिन यदि आप ये निर्णय ले लेते होते की आप उनके सलाह को सुनोंगे और अपने कार्य में सुधार की कोशिश करोंगे, तो आपका प्रदर्शन और भी ज्यादा अच्छा होने लगेंगा।

हम यहाँ ये नही कह रे है की सभी के सलाह को सुने और उन्ही के अनुसार आगे बढ़ते रहे। बल्कि हमारा मतलब है की, आप अपने जीवन में कुछ अच्छे और सफल इंसानों का चुनाव करे। जिनके बारे में आप सब कुछ जानते हो, या जो आपको दिल से चाहते हो या जिनको आपने रूचि है। और उन्ही के सलाह को सुनकर, उनके द्वारा बताये गये उपायों पर चलने की कोशिश करे। ऐसा करने से ही आपमें आंतरिक और शारीरिक बदलाव होंगा, और आपके प्रदर्शन में भी सुधार आयेंगा।

यदि आपको कोई मुश्किल होंगी के कैसे लोगो से उनके सलाह लिए जाये और कैसे उन्हें अपने जीवन में अपनाया जाये, तो आपके लिए ये लेख बहोत ही मददगार साबित हो सकता है।

ज्ञान की बात नं. 4 – असफलता को स्वीकार करे:

असफलता निश्चित ही मुश्किल होती है, लेकिन हर कोई जिंदगी में असफल नही बनना चाहता। कई बार सफल इंसान भी सफलता के रास्ते में असफल होते है। लेकिन वे भावनाओ में बहकर वही रुक नही जाते। बल्कि वे तो असफलता से सीखते है। असफलता उन्हें सिखाती है की उन्हें अपने प्रदर्शन में क्या बदलाव करने चाहिये, कहा सुधार करना चाहिये, और असफलता से ही सीखकर वे दोबारा उस गलती को नही दोहराते जो उन्होंने पहले की थी।

सफल होने के लिए असफल होना बहुत ही जरुरी है। कुछ लोग असफल होने के डर से नयी चीज़े करने से कतराते है। ऐसा करने से आप कभी असफल नहीं होंगे न ही आपसे कभी कोई गलती होगी पर ऐसा करने से आप कुछ नया नहीं सिख पाओगे।

ऐसा जीवन जीना व्यर्थ है जिसमे आपने कुछ सीखा नहीं या फिर कुछ नया किया नहीं। इसिलए अपने असफल कामो से शर्मिंदा होने से अच्छा उनपर गर्व महसूस कीजिये। उनके वजह से आप एक दिन सफल होंगे।

ज्ञान की बात नं. 5 – थोडा सा ज्यादा करने की कोशिश करे:

जब कभी भी आप जिम में काम कर रहे होते हो, तो 10 के जगह 11 रेप्स (Reps) मारने की कोशिश कीजिये। ऑफिस में 15 फोन करने की बजाये 16 कीजिये। आप कुछ ऐसा कर रहे हो जो आपको जरा भी पसंद ना हो तो उसे एक और बार करने की कोशिश कीजिये, इससे आपकी मानसिक विचारधारा बदलेंगी।

जिसमे आप जानते हो की आपको वह काम करना पसंद नही लेकिन बार-बार करते रहने से उसमे आपकी रूचि निर्माण होते चली जाती है।

सफलता के रास्ते पर कई मुकाम ऐसे आएंगे जब आपको काम करने के लिए कोई उत्साह नहीं होगा। जो काम पहले आपको बहुत अच्छा लगता था वह करने में आपको इतना मजा नहीं आएगा। ऐसे हालत में आपका मनोबल बढ़ने के लिए और खुदको प्रोत्साहित रखने के लिए आपको यह आदत डालनी होगी। कुछ भी करते वक़्त खुद की तरफ से कुछ एक्स्ट्रा करने की कोशिश करे। सफल लोगो की यह आदत आपको future में बहुत आगे ले जाएगी।

थोडा सा ज्यादा करने की कोशिश करे। जो एक साधारण इंसान कभी नही करता।

ज्ञान की बात नं. 6 – अपने रवैये का चुनाव करे:

किसी भी दिन घर से बाहर पहला कदम रखने से पहले आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण बात यही होती है की अपने दिन का सामना करने के लिए आप किस रवैये को अपनाते है। नकारात्मक रवैया आपके दिन को बुरा, बहुत बुरा बना सकता है। लेकिन एक सकारात्मक रवैया आपके जीवन में अच्छे और महान विचारो की वर्षा कर सकता है।

इसीलिए हमेशा घर से बाहर निकलने से पहले अपने रवैये को निश्चित कर ले, क्योकि जितना अच्छा रवैया आप अपनओंगे, उतना ही अच्छा आपका दिन होंगा। सकारात्मक रवैया ही Secret of success है।

ज्ञान की बात नं.7 – मुश्किल कामो को करने की कोशिश करे:

जहा दुनिया में लोग सबसे सरल, तेज़ और आसान रास्ता अपनाकर सफल बनना चाहते है वही आपको मुश्किल से मुश्किल रास्तो को अपनाकर सफल बनने की कोशिश करनी चाहिये।

मुश्किलों से दूर भागकर आप अपनी सफलता को खुद से और भी दुर भेजते चले जाते हो। सफलता के रास्ते में आने वाली मुश्किलों का सामना आपको कंधे से कंधा मिलाकर करना चाहिये। आँख से आँख मिलाकर आने वाली मुश्किलों का सामना करना चाहिये। और हमेशा यही सोचना चाहिये की आप कोई भी मुश्किल से मुश्किल काम कर सकते हो।

ज्ञान की बात नं. 8 – अपने लक्ष्य को रोज़ पुर्नस्थापित करे:

बहोत से कम सफल लोग यही सोचते है की अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए जिंदगी ही उन्हें कभी आकर्षित करेंगी। ऐसे इंसान वे क्या करना चाहते है की बजाये क्या कर रहे है इस बात पर ज्यादा ध्यान देते है। यदि आप अपने लक्ष्य को रोज़ पुर्नस्थापित करते हो तो आपके लिये सबसे अच्छी बात यही होंगी की आप आसानी से उसे प्राप्त कर सकते हो।

जब आप अपनी जरुरत के अनुसार काम करते हो, तभी आप अपने आप को सशक्त बना सकते हो।

ज्ञान की बात नं. 9 – कोई आपको भयभीत नही कर सकता:

कभी दूसरो से अपनेआप को भयभीत महसुस ना होने दे। कोई भी महान काम करने के लिये आपको किसी से भी इजाज़त लेने की जरुरत नही है। सिर्फ इसलिए की वे बुद्धिमान है, उन्हें अपने सिर पर ना बिठाये।

आप में भी बहुत अनुभव है और आप में उनसे भी महान सफलता हासिल कर सकते है। दूसरो को अपने से ज्यादा बुद्धिमानी मानना मतलब अपने विश्वास और हिम्मत को कम करना है। ऐसा करने से आपकी काबिलियत में भी कमी आएँगी क्योकि उस समय ऐसा सोचने लागोंगे की आप उनकी तरह अच्छे या महान नही है।

हमेशा याद रखे, हर किसी को बदला जा सकता है और हर किसी को हराया जा सकता है। बल्कि आपको भी।

कहते है सबसे बड़ा रोग क्या कहेंगे लोग, कोई भी काम करते वक़्त आपके प्रतियोगी आपके बारे में क्या बुरा कह रहे है उसपे focus करने के आलावा खुद के काम पर ध्यान दे। प्रतियोगिता की इज्ज़त करना सीखे और कभी भी न डरे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *